Rafale vs Chinese J-20 : क्या चीन का नकली लड़ाकू विमान भारत के राफेल की बराबरी कर पाएगा सब कुछ इस रिपोर्ट में जानिए

Rafale vs Chinese J-20 : क्या चीन का नकली लड़ाकू विमान भारत के राफेल की बराबरी कर पाएगा
फोटो – जी न्यूज 
जब से भारत में राफेल लड़ाकू विमान आए हैं तब भारत के दो पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान को नींद नहीं आ रही है, आखिर राफेल के आने से इनको इतनी चिंता क्यों होने लगी है , राफेल में ऐसा क्या है जो चीन और पाकिस्तान के पास नहीं है आइए इस रिपोर्ट में जानते हैं Rafale vs Chinese J-20

राफेल विमान में क्या खास है ।

राफेल विमान 4.5 जेनरेशन का लड़ाकू विमान है ।
राफेल एक साथ 40 टारगेट पता लगाने में सक्षम है यानी कि राफेल के रडार क्षेत्र में आने वाले 40 टारगेट को राफेल एक साथ पता लगाकर नष्ट कर सकता है जो की इसकी सबसे अहम खासियत है ।
राफेल में चार मिसाइल लगी हुई हैं जो दुश्मन पर अचूक निशाना लगाने में सक्षम हैं, राफेल में लगी हुई ” मिटियोर वियोंड विजुअल रेंज ” हवा से हवा में तथा ” स्कैलप मिसाइल ” हवा से जमीन पर निशान लगाने में सक्षम है ये दोनों बेहद खास और घातक मिसाइल राफेल को दुनिया के सभी लड़ाकू विमानों से अलग बना देती हैं ।


ये मिसाइल दुश्मन के विमान को दूर से ही नष्ट कर सकती है, इनमें से एक मीटियोर 150 किलोमीटर तक निशाना लगा सकती है जबकि स्कैल्प मिसाइल 500 किलोमीटर दूरी अचूक वार करती है ।

राफेल की स्पीड कितनी है ।

राफेल दो इंजन वाला फाइटर विमान है , 24500 किलोग्राम वजनी राफेल की इसकी स्पीड 2130 किलोमीटर प्रति घंटा है और मारक क्षमता 3700 किलोमीटर तक है जबकि 9500 किलोग्राम वजन लेकर उड़ने में सक्षम है ।
राफेल की लंबाई 15.23 मीटर ऊंचाई 5.3 मीटर है ।
राफेल मे एक खासियत बेहद अहम है कि यह विमान दुश्मन के रडार की पकड़ में नहीं आता है उसके बावजूद राफेल में ऐसी तकनीकी है जो दुश्मन में रदर सिस्टम को ही जाम कर देती है जिससे उसका रडार काम करना बंद कर देता है और राफेल उसे आसानी से निशाना बना सकता है ।
राफेल परमाणु हथियार ले जाने में भी सक्षम है इसके साथ ही राफेल में हवा में ही पेट्रोल भरे जाने की तकनीकी भी लगी है जिससे राफेल को अतिरिक्त समय तक मिशन पर रहने में आसानी हो जाती है ।
राफेल मे और भी बहुत सारी ऐसी तकनीक है जिनके बारे में किन्हीं सुरक्षा कारणों की वजह से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में को नहीं बताया जाता है और ना ही किसी अधिकारी को इसकी इजाजत दी जाती है जिससे सुरक्षा में कोई चूक हो ।

Rafale vs Chinese J-20 

हाल ही में भारत के पूर्व वायुसेना चीफ बीएस धनोआ ने अपने बयान में चीन के लड़ाकू विमान जे-20 ( Chinese fighter jet J-20 ) की सच्चाई पूरी दुनिया के सामने लाकर रख दी बीएस धनोआ ने ये बयान तब दिया है जब चीन के समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स में एक विशेषज्ञ ने ये दावा किया कि भारत का लड़ाकू विमान सुखोई- MKI से अच्छा है लेकिन चीन के फाइटर J – 20 से राफेल अभी पीछे है ।
चीन ने अपने लड़ाकू विमान J-20 की तुलना राफेल से करना शुरू कर दी है और चीन के मीडिया में राफेल को लेकर झूठ फैलाया जा रहा है, चीन ये दावा कर रहा है कि भारत के राफेल विमान चीन के J-20 के मुकाबले काफी कमजोर हैं ।
चीन के इस फर्जी एजेंडा को भारत के पूर्व वायुसेना प्रमुख ने सिरे से खारिज करते हुए कहा है कि चीन के विमानों की राफेल से तुलना करना बिल्कुल ग़लत है क्यूंकि राफेल के मुकाबले में चीन के विमान किसी भी मायने में अच्छे नहीं है ।
बीएस धनोआ ने कहा है कि अगर चीन के विमान इतने ही अच्छे हैं तो फिर उसका सबसे चहेता मित्र पाकिस्तान चीन के विमानों का उपयोग क्यूं नहीं करता जब भारत ने पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक की ती पाकिस्तान ने जवाबी कार्यवाही में अमेरिका के F-16 लड़ाकू विमानों का प्रयोग किया था और चीन के JF-17 विमानों को भारत से दूर ही रखा क्यूंकि पाकिस्तान भी ये जानता है कि चीन नकली और कॉपी किया हुआ सामान बेचने में माहिर है ।
चीन का J 20 लड़ाकू विमान के बारे में चीन का ये दावा है कि ये 5 पीढ़ी का लड़ाकू विमान है जिसमें उसने राफेल की तरह ही 4 मिसाइल भी लगाई है, साथ ही चीन ये दावा भी करता है कि दुनिया में कोई भी विमान इसका मुकाबला नहीं कर सकता ।
लेकिन हम आपको याद दिला दें कि चीन के किसी भी दावे और वादे पर बिल्कुल भरोसा मत कीजिए क्योंकि चीन दोहरे चरित्र वाला देश है जो कि अपनी बात से पलटने में देर नहीं लगाता , दुनिया में सबसे ज्यादा नकलची देश भी चीन ही है जो दूसरे देशों की तकनीकी चुरा कर उसे कम पैसे में तैयार करके बेचने लगता है ।
इस लड़ाकू विमान ने भी चीन ने कुछ ऐसा ही किया है उसने कई देशों की तकनीकी को कॉपी करके जे 20 में रख दिया है और दुनिया के बड़े देशों का मुकाबला करने के लिए इस विमान कि गीदड़ भभकी अब वो दे रहा है  ।
चीन का लड़ाकू विमान J-20 की असली ताकत का अंदाजा उस दिन लगेगा जब उसका सामना भारत के घातक राफेल से होगा, जब एक राफेल उसके कई J 20 विमानों पर भारी पड़ेगा तो चीन की सच्चाई दुनिया के सामने आएगी ।

Rafale vs Chinese J-20  पर हमारा ये विश्लेषण आपको कैसा लगा हमें कॉमेंट करके अवश्य बताएं और इस आर्टिकल को अपने दोस्त लोगों के साथ share करना ना भूलें 
जय हिन्द 🙏

Leave a Comment

%d bloggers like this: