laxmi ji ki aarti – ओम जय लक्ष्मी माता मैया जय लक्ष्मी माता

महालक्ष्मी जी की आरती हिन्दी में

 

laxmi ji ki aarti : लक्ष्मी जी की आरती का गुणगान करने से लक्ष्मी माता प्रसन्न होती हैं , वैसे तो हर घर में लक्ष्मी जी की पुजा होती है लेकिन दीपावली पर लक्ष्मी जी की पुजा विशेष रूप से की जाती है इसलिए दीपावली पर लक्ष्मी माता की आरती पूर्ण शुद्ध शब्दों में करें लक्ष्मी जी की कृपा आप सभी पर बनी रहे 

 

Maha Laxmi ji Diwali aarti ओम जय लक्ष्मी माता ( laxmi ji ki aarti )

 

ओम जय लक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता ।

तुमको निश दिन सेवत , हरिविष्णु विधाता ।।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

उमा रमा ब्रह्माणी , तुम ही जगमाता ।

सूर्य चंद्रमा ध्यावत , नारद ऋषि गाता ।।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

दुर्गा रूप निरंजन,  सुख सम्पत्ति दाता ।

जो कोई तुमको ध्यावत ,ऋद्धि सिद्धि फल पाता।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

तुम पाताल निवासिनी , तुम ही शुभ दाता ।

कर्म प्रभाव प्रकाशिनी , भव – निधि की त्राता ।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

जिस घर में तुम रहती , सब सद्गुण आता ।

सब संभव हो जाता , मन नहीं घबराता ।।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

तुम बिन यज्ञ न होते , वस्त्र ना कोई पाता

खान पान का वैभव , सब तुमसे आता ।।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

शुभ – गुण मंदिर सुन्दर , क्षीरो दधी जाता

रत्न चतुर्दश तुम बिन , कोई नहीं पाता ।।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

लक्ष्मी जी की आरती , जो कोई नर गाता

उर आनंद समाता , पाप उतर जाता ।।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

जय लक्ष्मी माता , मैया जय लक्ष्मी माता ।

तुमको निश दिन सेवत , हरिविष्णु विधाता ।।

ओम जय लक्ष्मी माता ।।

 

लक्ष्मी जी की आरती ( laxmi ji ki aarti ) बोलने के बाद लक्ष्मी जी की जय अवश्य बोलें सभी प्रेम से बोलो लक्ष्मी मैया की जय बोलो विष्णु भगवान की जय , श्री रामचंद्र भगवान की जय 

 

 

गोवर्धन पर्वत की कथा – गोवर्धन की पूजा क्यों कि जाती है