Congress party scams : नेहरू से लेकर मनमोहन तक, लिस्ट देखकर आश्चर्य में पड़ जाओगे

Congress party scams

 

मैं आपके सामने Congress party scams कोंग्रेस के राज में हुए कुछ प्रमुख घोटालों की लिस्ट रख रहा हूं इसलिए आप इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें वैसे घोटाले तो इतने हुए कि गिनना भी मुश्किल है लेकिन जो दुनिया के सामने आ गए उन पर नजर डालना जरूरी है ।

 


Congress party scams list

जवाहर लाल नेहरू के घोटाले 

1. साइकिल घोटाला

2. मूंदड़ा घोटाला

3. तेजा लोन घोटाला

4. प्रताप सिंह कैरौ घोटाला

5. जीप घोटाला

 

इंदिरा गांधी के घोटाले

1. मारुति घोटाला

2. अंतुले घोटाला

3. इंडियन ऑयल घोटाला

4. चुरुहट लॉटरी घोटाला

 

राजीव गांधी के घोटाले

1. बोफोर्स तोप घोटाला

2. सेंट किड्स घोटाला

3. पनडुब्बी घोटाला

4. एयर इंडिया घोटाला

 

मनमोहन सरकार के घोटाले

1. अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला

2. कॉमवेल्थ घोटाला

3. इसरो घोटाला

4. टू जी स्पेक्ट्रम घोटाला

5. आदर्श घोटाला

6. आईपीएल घोटाला

7. सत्यम घोटाला

8. कोयला घोटाला

9. ऑयल फॉर फूड घोटाला

 


गांधी परिवार के घोटाले और कोंग्रेस सरकार के समय हुए घोटालों का विस्तार से वर्णन : Congress party scams


मारुति घोटाला ( maruti ghotala )

ये घोटाला सन 1974 में हुआ था इसके कोंग्रेस सरकार की सबसे चर्चित प्रधानमंत्री रही इंदिरा गांधी का नाम सामने आया था । बात ये थी कि संजय गांधी को पैसेंजर कार बनाने की कम्पनी का लाइसेंस दिलाने में इंदिरा गांधी ने मदद की थी ।

 

कम्पनी का मैनेजिंग डायरेक्टर सोनिया गांधी को बनाया गया था जबकि सोनिया गांधी इसके लायक ही नहीं थी । उसके बाबजूद इस कार निर्माता कम्पनी ने एक भी कार बनाकर भाई दी और इंदिरा गांधी की ओर से कम्पनी को टैक्स में छूट दी थी तथा उसके लिए जमीन और फंड से सम्बन्धित बहुत सारी छूट केवल इसलिए दी गई थी कि वो इंदिरा गांधी के बेटे की कम्पनी थी ।

 


बोफोर्स घोटाला 

यह घोटाला तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के समय हुआ था जिसमें करीब 70 करोड़ रुपए का घोटला हुआ था

भारत सरकार ने स्वीडन की एक हथियार निर्माता कम्पनी से होवित्जर तोप का सौदा किया था यह सौदा 1437 करोड़ रुपए का था ।

ये आरोप था कि कंपनी ने कमिशन के तौर पर 7 पो करोड़ रुपए दिए थे जिसमे भारत के कई राजनेता और अधिकारी शामिल थे जिसमे सोनिया और राजीव गांधी समेत कई कांग्रेसी शामिल हैं ।

इस घोटाले जा असर ये हुआ कि 1989 के लोकसभा चुनाव में राजीव गांधी को हार का सामना करना पड़ा और जनता में उनकी खूब बेइज्जती हुई ।

 


अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला 

अगस्ता वेस्टलैंड हेलिकॉप्टर डील में घोटाले जा श्रेय भी कोंग्रेस सरकार को ही जाता है । वीवीआईपी हलीकॉप्टरों की इस डील में 12 हेलीकॉ्टरों का सौदा कुल 3600 करोड़ रुपए में तय हुआ था ।

इस डील में 360 करोड़ का घोटाला हुआ था । इतालवी कोर्ट के मुताबिक इसमें भारत के कई राजनेता और अधिकारी शामिल थे । कोर्ट ने सोनिया गांधी का नाम प्रमुख तौर पर लिया था ।

इतालवी कोर्ट ने कहा था कि कंपनी बे भारत के अधिकारी और नेताओं को करीब 100 करिड रुपए की रिश्वत दी थी जिनमें से एक नाम आईएफ के चीफ रहे एसपी त्यागी का भी था ।

 


नेशनल हेराल्ड स्कैम

नेशनल हेराल्ड एक अखबार है जो की 1938 में बना था , उस समय इसका संपादन नेहरू करते थे उसके बाद ये अखबार कई बार बंद हुआ और कई बार फिर से चालू हो गया

2008 में इस अखबार को पूर्ण रूप से बंद कर दिया गया और इसका मालिकाना हक कोंग्रेस पार्टी ने छीन लिया ।

जबकि बंद करते समय इसका हक एसोसियेट जर्नल्स को दिया गया था लेकिन कोंग्रेस ने यंग इंडिया नाम से एक पत्रिका निकाली जिसमें 150 करोड़ रुपए में नेशनल हेराल्ड पर कब्जा कर लिया इस कम्पनी में 76 प्रतिशत सोनिया गांधी का हिस्सा था ।

लेकिन नेशनल हेराल्ड की कीमत लगभग 1600 करिड रुपए थी जिसको गांधी परिवार ने हड़प लिया और इसके लिए इन लोगों पर केस भी दर्ज हुआ और अब दोनों मां बेटे वेल पर चल रहे हैं ।


Congress party scams

2 जी स्पेक्ट्रम घोटाला 

यह घोटाला 2008 ने हुआ था , इस घोटाले कि वजह से भारत सरकार को करीब 1लाख 76 हजार करोड़ रुपए का नुक़सान हुआ था ।

बात ये थी कि कांग्रेस सरकार ने दूरसंचार कंपनियों को स्पेक्ट्रम देने में गलत तरीको का इस्तेमाल किया और किसी भी प्रकार की नीलामी किए बिना ही कम्पनियों को पहले आओ और पहले पाओ की नीति पर स्पेक्ट्रम बांट दिया गया जिसका परिणाम ये हुआ कि सरकारी खजाने को 1.76 लाख करोड़ रुपए का नुक़सान हुआ ।

इस ममले में तत्कालीन दूरसंचार मंत्री ए राजा जेल भी जा चुके हैं और कोंग्रेस पार्टी पर बहुत गंभीर इल्जाम लगे ।

 


जीप घोटाला 

जब देश आजाद हुआ था तो भारत की सेना के पास जीप की कमी थी इसलिए तत्कालीन पीएम जवाहर लाला नेहरू ने लंदन की एक कंपनी से 200 जीप का सौदा किया था और ये सौदा करीब 88 लाख रुपए था और जब सेना को जीप मिली थी वो बहुत घटिया किस्म की थी और केवल 155 जीप ही सेना को मिली थी ।

इस मुद्दे को उस समय के पीएम ने दबा दिया था लेकिन घोटाला छुप नहीं सकता चाहे वो कोई पीएम जो या आम आदमी , सच दुनिया के सामने आ ही जाता है ।

 


पनडुब्बी घोटाला 

मोरारजी की सरकार ने स्वीडन की एक कंपनी से चार पनडुब्बी खरीदने का सौदा किया था , कम्पनी से सबसे कम दामों में बोली लगाई थी इसलिए सरकार ने सौदे को ठीक समझा और सौदा ही भी गया लेकिन इंदिरा सरकार आने के बाद फैसले को पलटा गया और एक जर्मनी कम्पनी को  इसका जिम्मा सौंपा गया , जर्मन कंपनी ने इस सौदे को हासिल करने के लिए कथित तौर पर कुल सौदे का सात परसेंट कमीशन दिया था ।


गौर करने वाली बात :

देश को आजाद हुए 70 साल से ज्यादा हो गए लेकिन अभी भी हमारे देश में गरीबी और भ्रष्टाचार समाप्त नहीं हुआ । आजदी के बाद सत्ता कोंग्रेस पार्टी को मिल गई और फिर लगी घोटालों की लाइन…एक के बाद एक घोटाला हुआ और देश की जनता का पैसा कोंग्रेस के नेता खा गए जिसमें गांधी परिवार का नाम सबसे ऊपर आता है

वैसे भी कोंग्रेस कुछ नहीं है जो कुछ है गांधी परिवार है इसके बिना कुछ भी निर्णय नहीं होता और न कोई घोटाला इनके बिना सफल हो सकता है यानी की घोटालों का अगर नाम आएगा तो गांधी परिवार अवश्य आएगा

 

अब तो आप को पता चल ही गया होगा गांधी परिवार के घोटाले भारत की जनता को कितने महंगे पड़े लेकिन ये भी जान लो कि ऐसे दुनिया के कई देश हैं जो आजादी के समय हमसे भी ज्यादा खराब स्थति में थे लेकिन वो भारत से आगे निकल गए क्युकी वहां की सरकारों ने देश के विकास पर ध्यान दिया ना कि देश को लूटने पर ।

अगर आप मेरी बात से सहमत है तो ये खबर अपने 5 दोस्तों को शेयर करें और जनता के सामने कोंग्रेस के वास्तविक चरित्र को उजागर करने में मेरी मदद करें

 

जय हिन्द नमस्कार भारत माता की जय !!

 


Leave a Comment

%d bloggers like this: