Hathway Cable टीवी नेटवर्क ने एनडीटीवी के प्रसारण पर लगाई रोक

टीवी केबल ऑपरेटर हैथवे केबल एंड डाटाकॉम ने हिंदी न्यूज चैनल एनडीटीवी इंडिया को लोकप्रिय चैनल पैक से हटा दिया है। रविश कुमार ने  इस मुद्दे के बारे में अपने ट्विटर हैंडल के माध्यम से ट्वीट किया और केबल ऑपरेटर के ग्राहकों से ग्राहक सेवा नंबर पर कॉल करने और और ये पूछने की अपील करी कि एनडीटीवी इंडिया चैनल को क्यों हटाया गया है।

Suparna Singh ने लिखा: एनडीटीवी इंडिया को हैथवे केबल टीवी ने कुछ लोकप्रिय पैक से हटा दिया है। इसे हल करने के लिए हमारी टीम उनसे बात कर रही है। NDTV का समर्थन करने के लिए, कृपया Hathway Cable TV को ट्वीट करें या उन्हें कॉल करें।

 


रवीश कुमार ने एक वीडियो क्लिप जारी  की, जिसे NDTV के सोशल मीडिया हैंडल पर साझा किया गया है। रविश कुमार ने अपने प्राइम टाइम शो में कहा कि अक्सर टीवी समाचार चैनलों को परिचालन बाधाओं का हवाला देते हुए चैनल पैक से हटा दिया जाता है। हालाँकि, यह मामला अलग है।

 


लोगों की राय क्या है आइये जानते हैं

A.Venkat Rao
जब मुम्बई में हप्ता वसूली काँड हुआ था तो आप 10 दिनों के लिए अपने शो से गायब हो गए थे क्यो-?क्योकि महाराष्ट्र में आप के प्रिय विषय- मोदी-मोदी-आरएसएस–BJP–की सरकार नही है बोलकर-??क्या आज तक कभी भी एक शब्द-??एक लाइन भी बोली है मुम्बई की हप्ता वसूली अघाड़ी के बारे में -डर लगता है न-
 
Darshan नाम के यूजर ने ट्वीट किस कि 

बहुत अच्छा किया इस बकवास चेनल हटा के. लोकप्रियता के मामले में यंह बहुत ही निचले स्तर पर है. साथ ही ravish रोनी सूरत बनाए न्यूज देता है.. सारे ख़बरें देश के, सरकार के विरुद्ध, हिंदूवो का जानी दुश्मन चेनल, राम मंदिर की ख़बर मातम मानते हुए दी. चीन +पाक का हिमायती..देशद्रोही चेनल

 

 

तो वहीं कई लोग एनडीटीवी के सपोर्ट में भी बोले एक यूजर ने कहा – Hathway केबल ऑपरेटर ने NDTV की एक्सेस को रोक दिया है. जिससे जनता का एक बड़ा हिस्सा NDTV और रवीश को न देख सके. इस कंपनी को साल 2018 में अंबानी की रिलायंस ने ख़रीद लिया था. वे चाहते हैं कि आपका बच्चा सिर्फ़ अमीश देवगन को देखे रवीश को न देखे. ताकि आप मूर्ख बने रहें सोचना बंद कर दें.

 


Hathway wikipedia in hindi

हैथवे केबल एंड डाटाकॉम लिमिटेड, पूर्व में बीआईटीवी केबल नेटवर्क, मुंबई में स्थित एक भारतीय केबल टेलीविजन सेवा ऑपरेटर है। यह भारत में CATV नेटवर्क का उपयोग करके इंटरनेट प्रदान करने वाली पहली कंपनी थी, और 2006 में डिजिटल प्लेटफॉर्म लॉन्च करने वाली पहली केबल ऑपरेटर थी।  हैथवे ब्रॉडबैंड इंटरनेट भारत में पहला केबल आईएसपी था।

 

क्या hathway मुकेश अंबानी की है

17 अक्टूबर, 2018 को, रिलायंस इंडस्ट्रीज ने घोषणा की कि उसने Hathway में 2,940 करोड़ (US$410 मिलियन) में 51.34% हिस्सेदारी हासिल कर ली है। हिस्सेदारी को जनवरी 2019 में भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग से मंजूरी मिली।  रिलायंस ने मार्च 2019 में  1,180.42 करोड़ (US$170 मिलियन) की खुली पेशकश के माध्यम से Hathway  में अतिरिक्त 20.61% हिस्सेदारी भी ले ली , जिससे कंपनी में इसकी कुल हिस्सेदारी 71.95% हो गई।

 

hathway का मालिक कौन है – Reliance Industries

 

 

 

 

Leave a Comment

%d bloggers like this: