सुशांत की गर्दन ,चेहरा और हाथ पर गहरे चोट के निशान, फर्जी पोस्टमार्टम हुआ था SSR Autopsy Was Botched Up

 

SSR Autopsy Was Botched Up सुशांत का पोस्टमार्टम रात में बिना मजिस्ट्रेट की अनुमति के किया गया, जिसकी जरूरत होती ही है तो फिर इतनी जल्दी किस बात के लिए की गयी ? फर्जी पीएम रिपोर्ट बनाने के लिए वीडियोग्राफी नहीं हुई क्या इसमें संदिग्ध डॉक्टर शामिल हैं।

 

सुशांत सिंह राजपूत के गले परे गहरे चोट के निशान हैं जो कि एक आत्महत्या करने वाले इंसान कि गर्दन पर नहीं होते , जब कोई रस्सी से फंडा लगाकर आत्महत्या करता है तो गले पर v आकृति का निशान रस्सी से बन जाता है , लेकिन सुशांत के गर्दन पर o शेप का निशान है जो कि इशारा करता है कि उसका गला किसी ने जबर्दस्ती घोंटा था

 

सुशांत के जो फोटो मीडिया मे आए उनमे दिख रहा है कि सुशांत कि आँखें आधी खुली हुई है , जो कि आत्महत्या कि निशानी नहीं है , उसके चहरे पर चोट के निशान साफ दिख रहे थे , हाथ पर चोट के निशान थे , अगर कोई व्यक्ति आत्महत्या करता तो उसके बॉडी पर ये चीजें देखने को नहीं मिलती , इसलिए ये साफ साफ हत्या है किसी ने सुशांत को बुरी तरह पीटा फिर रस्सी से उसका गला घोंट दिया

सुशांत को बेहद क्रूरता से मारा गया था, घुटना और पैर की उँगलियाँ टूटी थी गले पर गहरे चोट के निशान थे

 

 

 

SSR Autopsy Was Botched Up

लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में एक भी चोट के निशान के बारे मे जिक्र नहीं है उसके बाबाजूद पोस्टमार्टम रात में ही कर दिया गया था , पोस्टमार्टम में मौत का समय भी नहीं लिखा था सब कुछ फर्जीवाड़ा किया गया था  जब डॉक्टर से सीबीआई ने इसकी वजह जानना चाही तो उन्होने कहा कि हम पर मुंबई पुलिस का दबाब था

Cooper Hospital ki Sachchai – मुंबई पुलिस के दबाब से रात में ही कर दिया सुशांत का पोस्टमार्टम

 

फिर सीबीआई ने मुंबई पुलिस को जांच के घेरे में क्यूँ नहीं लिया , क्यूँ नहीं उन पुलिस वालों को भी पूछताछ में शामिल किया गया , जबकि उन लोगों ने सारा केस ही भटका दिया , सारे सबूत नष्ट कर दिये अब सीबीआई जांच करती रहे , कुछ मिलने वाला है इसकी उम्मीद भी करें तो किस आधार पर करें

 

सीबीआई ने आजतक सुशांत केस में हत्या का केस दर्ज नहीं किया है फिर आखिर सीबीआई इतने दिन से किस बात कि जांच कर रही है , कोई भी केस हो सीबीआई को इतना समय नहीं लग सकता क्यूंकी वो भारत कि सबसे बड़ी जांच एजेंसी है उसके पास सब कुछ है , सरकार कि सारी मशीनरी है , फिर भी सीबीआई अगर किसी के दबाब में काम करे तो इस बात का कोई इलाज है भी नहीं

 

इस देश में सबसे बड़ा कारण है भ्रष्टाचार जो किसी भी केस को भटका सकता है नेताओं और बड़े लोगों के पास पैसा बहुत है किसी भी अफसर को बड़ी रकम मिले तो कैसे सत्य पर टिक सकेगा यही सुशांत केस में हो रहा है

Leave a Comment

%d bloggers like this: